Khudgarziyaan book cover, Damick Store
Khudgarziyaan - book cover, damick store

Khudgarziyaan

Author: Harmanjeet Singh Punia
0 star rating out of 5
20% Off In Stock
₹ 104
M.R.P.: ₹130
Your Save: ₹26
(Inclusive of all taxes)

About the Book
“ज़िंदगी हसीन भी है, ज़हर ग़मगीन भी है, तरसती ख़िज़ाओं संग … थोड़ी रंगीन भी है, उलझ गए सुलझाने वाले … ऐसी ये पहेली है, ज़रा सी शौक़ीन और ज़रा नमकीन भी है …” ख़ुदगर्ज़ियाँ मेरे उन जज़्बातों का संग्रह है जिनको मैं कभी ज़ुबान नहीं दे पाया और शायद ना ही कभी दे पाऊँगा। कुछ मोहब्बत से भरे कुछ कसक से भरे … कुछ इंतज़ार में डूबे और कुछ प्यास में डूबे, ये जज़्बात आज आपके दिल पर दस्तक दे रहे हैं … उम्मीद है ये दस्तक क़बूल होगी!

About Author
हरमनजीत सिंह पूनीया, पंजाब के फ़तेहगढ़ साहिब ज़िले के रहने वाले एक उभरते कहानीकार व शायर हैं। ‘ख़ुदगर्ज़ियाँ’ उनका हिन्दी कविता का पहला संग्रह है। इससे पहले उनकी प्यार के एहसास में डूबी कहानियों का संग्रह ‘पश्मीना’ अंग्रेज़ी में प्रकाशित हो चुका है; जो हर पढ़ने वाले के दिल को छू जाने में कामयाब रहा।

Details
  • Title: Khudgarziyaan
  • ISBN: 978-81-947513-7-3
  • Format: Paperback
  • Date of Publication: 12 Jun, 2021
  • Language: Hindi
  • Category: Poetry

No. of Pages 60
Weight 100 g
Dimensions 5 x 1 x 8 IN
No Review Yet!
add review, Khudgarziyaan

Your email address will not be published. Required fields are marked *